Uttrakhand

गढ़वाल में परमार वंश से संबन्धित महत्वपूर्ण प्रश्न

उत्तराखण्ड का इतिहास – परमार वंश

परमार वंश से संबन्धित महत्वपूर्ण प्रश्न

  1. परमार वंश का आदिपुरुष / संस्थापक था – कनकपाल
  2. ‘गढ़वाल एन्शियण्ट एण्ड मौडर्न’ प्स्तक के लेखक थे – पातीराम
  3. ‘पुराना दरबार’ नमक राजप्रसाद स्थित है – टिहरी में
  4. ‘सभासार’ नामक ग्रंथ के लेखक थे – सुदर्शनशाह
  5. गढ़राज्य में भाटों द्वारा रचित गीत कहलाते है – पवाड़ा या पैवाड़ा
  6. ‘भारतीय लोक साहित्य’ पुस्तक के लेखक हैं – श्याम प्रसाद
  7. ‘गढ़वाल की दिवंगत विभूतियाँ’ के लेखक हैं – भक्त दर्शन सिंह
  8. ‘मन्दाकिनी’ नामक पवित्र कुण्ड स्थित है – माउन्ट आबू में
  9. गढ़वाल का इतिहास’ के लेखक हैं – पं. हरीकृष्ण रतुड़ी
  10. ‘गढ़वाल वर्णन’ के लेखक हैं – पं. हरीकृष्ण रतुड़ी
  11. ‘गढ़वाल जाति प्रकाश’ के लेखक हैं – बालकृष्ण भट्ट
  12. ‘कुमाऊँ का इतिहास’ के लेखक हैं – बद्रीदत्त पाण्डेय
  13. 1358 में गढ़राज्य की राजधानी ‘चाँदपुर गढ़ी’ से बदलकर श्रीनगर की गई – राजा अजयपाल के शासन काल में
  14. मनोदय (ज्ञानोदय) पुस्तक के रचयिता थे – कवि भरत
  15. गोरखनाथ पंथ के सन्यासी ‘सरनाथ’ का आवास स्थल था – देवलगढ़ में
  16. ‘शाह’ की उपाधि धारण करने वाला प्रथम गढ़वाल नरेश था – बलभद्र शाह
  17. ‘नक कट्टी रानी’ के नाम से प्रसिद्ध रानी थी – रानी कर्णवती
  18. मुगल शहजादा ‘दादा शिकोह’ के पुत्र ‘सुलेमान शिकोह’ को आश्रय दिया – पृथ्वीपति शाह ने
  19. ‘गढ़ गीता संग्राम’ या ‘गणिका नाटक’ ग्रन्थ के लेखक थे – मोलाराम

 

Download PDF Click Here

You can also read these articles :

Summary
Review Date
Reviewed Item
गढ़वाल में परमार वंश से संबन्धित महत्वपूर्ण प्रश्न
Author Rating
51star1star1star1star1star

No Comments

    Leave a Reply

    error: Content is protected !!